Home / Health Benefits / गंभीर दर्द की आयुर्वेदिक युक्तियाँ – Neck, Migraine, Headache, Back Pain Treatment
Home Remedies for Pain
Home Remedies for Pain

गंभीर दर्द की आयुर्वेदिक युक्तियाँ – Neck, Migraine, Headache, Back Pain Treatment

Neck Pain | Migraines Pain | Headache | Back Pain | Upper Back Pain Treatment

Pain Treatment, Home Remedies for Pain

Home Remedies for Pain– क्या आपकी गर्दन, पीठ या कंधे में दर्द है? क्या आप रोज के तनाव से ग्रस्त हैं, फाइब्रोमायलग्आ (fibromyalgia), माइग्रेन दर्द (migraines pain), या पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस (osteoarthritis) ? पार्टनर्स अॉंस्टेंस्ट पेन द्वारा प्रायोजित राष्ट्रीय अध्ययनों के मुताबिक, अमेरिका के करीब 44 मिलियन घरों में से कम से कम एक व्यक्ति क्रोनिक दर्द (chronic pain) से ग्रस्त है। इनमें से 78 प्रतिशत अपने पारंपरिक दर्द-नियंत्रण दवाओं (pain-control medications) से असंतुष्ट हैं। वे नए उपचार (new treatments) की कोशिश भी करना चाहते है, और 43 प्रतिशत ऐसे उपचार पर अधिक पैसा खर्च करने को त्यार है यदि उन्हें पता था कि यह काम करेगा। आधे से अधिक रिपोर्ट में कहा गया है कि दर्द उनके समग्र मनोदशा (mood) को प्रभावित करता है और उनकी नींद में परेशान करता है, और 80 प्रतिशत का मानना ​​है कि उनका दर्द कुछ ऐसा है की बस उन्हें अब उसी दर्द के साथ रहना है। आयुर्वेद (Ayurveda) का एक अलग दृष्टिकोण है।

Home Remedies for Migraines | Migraine Treatment in Hindi | Home Remedies for Migraine in Hindi | Migraine Treatment at Home in Hindi

क्रोनिक दर्द को समझना Chronic Pain

यदि आप अपने शरीर के संदेश को अनदेखा करते हैं, तो दर्द से डरने से पहले समस्या को पकड़ने की कोशिश करें। कुछ बेहोश की आदतें (unconscious habits) – लंबे समय के लिए आपकी मांसपेशियों पर दबाव डालकर आपकी सांस को रोकना, अपनी भावनाओं को दबाने, अतिप्रभावित भोजन, परिष्कृत भोजन, बहुत से कैफीन खाने या पर्याप्त पानी न हो, हमें दर्द के लिए अधिक संवेदना बनाते हैं। यदि आप देख सकते हैं कि आपकी किस गतिविधियों और आदतों में इस दर्द का योगदान होता है, तो आप अपने दर्द को स्वाभाविक रूप से काम करना शुरू कर सकते हैं

प्राकृतिक दर्द उपाय की कोशिश करें (Natural Pain Remedy in Hindi)

चूंकि हर कोई अलग है, एक आयुर्वेदिक व्यवसायी (ayurvedic practitioner) को ढूंढना सबसे अच्छा है जो आपके व्यक्तिगत आवश्यकताओं के लिए एक कार्यक्रम तैयार कर सकता है। इस बीच, यहां कुछ उपाय हैं, जो दर्द के घरेलू उपचार (Home Remedies for Pain) मददगार हो सकते है।

1. व्यवस्थित विश्राम – Systematic relaxation
अगली बार जब आप अपने लक्षणों के लिए एक गोली (pill) खाने के लिए इच्छुक हैं, तो दवाई की बजाए शवासन (लाश धारण) पर 10 मिनट खर्च करें। यह अभ्यास मांसपेशियों की ऐंठन को कम कर सकता है, तनाव को दूर (relieve tension) कर सकता है, और मन को स्वाभाविक रूप से शांत कर सकता है

2. मालिश – Massage
आयुर्वेदिक परंपरा में, नियमित तेल मालिश या स्नेहन, सभी प्रकार की बीमारियों के लिए चिकित्सा का एक अत्यधिक प्रभावी रूप माना जाता है। मालिश दर्द कम (reduce pain) करने में मदद करता है। क्योंकि यह वात, जोड़ों और मांसपेशियों की कठोरता को फैलता है, रक्त परिसंचरण (increases circulation) को बढ़ाता है, और शरीर को आराम देता है। एक महीने में एक बार मालिश करने के लिए एक योग्य चिकित्सक (therapist) खोजें। (एक हफ्ते एक बार भी बेहतर होगा।) अगर पैसा तंग है, तो अपने आप को खुद रोजाना एक तेल मालिश रोजाना दें।

3. आहार – Diet
खाद्य (Food) भी एक शक्तिशाली हीलर है। एक महीने के लिए गर्म, नम, हल्का मसालेदार, पौष्टिक खाद्य पदार्थों के आहार का पालन करें और देखें कि क्या यह एक अंतर बनाता है। सुनिश्चित करें कि मिठाई के प्राकृतिक, स्वस्थ स्रोतों (जैसे परिपक्व प्लम, नाशपाती, या तिथियां) मिलें और अधिक मात्रा में न करें।

Home Remedies for Headache in Hindi | Home Remedies for Back Pain in Hindi | Upper Back Pain Treatment in Hindi | Back Pain Treatment at Home in Hindi

4. कोमल आसन – Gentle Asana
दर्द हमें हम सामान्य रूप से रहने और चलने में परेशानी पैदा करता हैं, जिससे शरीर में ठहराव जहां विषों का जमा होता है, और यह दर्द का कारण बनता है। सौम्य आसन के साथ हमारे मांसपेशियों को ठेका और आराम से रक्त, लसीका, और श्लेष्म द्रव को जुटाने के द्वारा ठहराव से राहत मिलती है। हर सुबह या शाम 15 मिनट कोमल आसन कीजिये।

5. अरोमाथेरेपी – Aromatherapy
अध्ययनों से पता चलता है कि दौनी (rosemary) और अजवायन के फूल (thyme) के आवश्यक तेलों में मांसपेशियों में रक्त प्रवाह बढ़ता है और गर्मी पैदा होती है, जबकि पेपरमिंट (peppermint) और मर्टल (myrtle) में अस्थायी दर्द निवारण प्रभाव होता है। कुछ बूंद डालें एक अरोमाथेरेपी विसारक (aromatherapy diffuser) में, एक गर्म स्नान (hot bath), या आपकी मालिश तेल में और आनंद लें। (यदि आप अपनी त्वचा पर आवश्यक तेलों का उपयोग कर रहे हैं, तो मोटे तौर पर आवेदन करने से पहले परीक्षण करें।)

Neck Pain Treatment in Hindi | Back Pain Treatment in Hindi | Back Pain Treatment in Hindi Language | Neck Pain Treatment at Home in Hindi

6. जड़ी बूटी – Herbs
हल्दी (Turmeric) और अदरक (ginger) से पीठ दर्द (upper back pain) कम हो जाता है, जबकि वैलेरिअन (valerian), कावा कावा, कैमोमाइल (chamomile), स्कुलकैप, जुनूनफ्लॉवर (passionflower), हॉप्स और जटामांसी (“इंडियन वेलेरिअन”) (jatamansi (the “Indian valerian”) तनाव से संबंधित दर्द (tension-related pain Treatment) का मुकाबला करने में मदद करते हैं। और चूंकि पुरानी दर्द (chronic pain) अक्सर सूजन और तनाव का संयोजन होता है, इन जड़ी बूटियों को संयोजन (home remedies for pain) संयोजनों में अक्सर बेचा जाता है। वे ऑनलाइन उपलब्ध हैं और कई स्वास्थ्य-खाद्य भंडार (health-food stores) पर।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Big Boss is Watching !!