Home / Disease Symptoms / महिलाओं में अवसाद के लक्षण (Lakshan)-Women Depression Symptoms in Hindi
Women Depression Symptoms in Hindi
Women Depression Symptoms in Hindi

महिलाओं में अवसाद के लक्षण (Lakshan)-Women Depression Symptoms in Hindi

Depression ke Lakshan in Hindi- हर किसी को अवसाद के संकेतों और लक्षणों की समझ होना चाहिए। पुरुषों की तुलना में महिलाओं में अवसाद अधिक प्रचलित हो जाता है। अवसाद के ज्यादा पीड़ितों को तो पता नहीं है कि उन्हें यह विकार है या फिर वे अवसाद के को हल्का ले रहे है और सहायता के लिए आवश्यक उपचार नहीं प्राप्त कर रहे हैं। महिलाओं में अवसाद के कुछ लक्षण (Depression Symptoms in Hindi) यहां दिए गए हैं।

Depression Symptoms in Hindi

  • घर पर खालीपन की भावना होने से महिलाओं में लगातार उदास, चिंतित होना स्वाभाविक है। अवसाद से पीड़ित महिलाये उन गतिविधियों में रुचि खो सकते हैं जो आमतौर पर उनके लिए बहुत ही अच्छा समय होता है जैसे कि सेक्स। उनकी कामेच्छा – या यौन अभियान – पूरी तरह से कम हो सकता है।
  • उन्हें लगातार रोना या रोया हुआ चेहरा दिखना भी अवसाद के लक्षण में से एक है।
  • क्या वे अपने असहायता, निराशा या हाव भाव की भावनाओं को व्यक्त करते हैं?
  • क्या वे बिस्तर पर लंबे समय तक बिताते हैं जैसे कि सप्ताह के अंत पर एक अच्छा दिन होने के बजाय बहुत देर तक नींद लेना, देरी से उठने। उन्हें दुनिया का सामना करना मुश्किल हो सकता है और उनका बिस्तर उनको दिलासा दे रहा है जो उन्हें ज़रूरत है।
  • उनकी भूख कम हो गई है? क्या वे अपने भोजन के साथ खेल रहे हैं और अपने भोजन को खत्म नहीं कर रहे हैं, या शायद वे मेज जल्दी छोड़ रहे हैं? क्या उन्होंने वजन कम किया है?
  • क्या उनकी ऊर्जा में कमी आई है? अवसाद व्यक्ति की भावना को खत्म कर देता है और उन्हें ऐसा महसूस होता है की वह लंबे समय तक थका हुआ है।
  • सामान्य बातचीत पर ध्यान केंद्रित करने या ध्यान देने में समस्या। मस्तिष्क उन मामलों से भटकना या सोचना शुरू कर देता है जो निराशा पैदा कर रहे हैं। ऐसे व्यक्ति के साथ कुछ चर्चा करने की कोशिश करना बहुत निराशाजनक हो सकता है।

अवसाद के अन्य शारीरिक लक्षणों में सिरदर्द, अपच या अन्य पाचन विकार और शरीर में कहीं भी दर्द हो सकता है।

महिलाओं में अवसाद के लक्षण (Sign of Depression in Women) बहुत व्यापक हैं, जैसा कि ऊपर उल्लिखित किया है, लेकिन वे सभी अवसाद के निदान में ज्यादा जोर नहीं देते हैं। हर कोई अलग है, इसलिए अवसाद इनमें से कुछ लोगो को प्रभावित कर सकते हैं और कुछ को नहीं।

आपको खुद नहीं परिचित होंगे कि आप खुद अवसाद से पीड़ित हैं, लेकिन इसे पढ़ने पर आप अपनी स्थिति के बारे में थोड़ा समझदार बनेगे। अगर आप में आत्मविश्वास नहीं है की आप अवसाद से पीड़ित है या नहीं तो आप खुद को अपने चिकित्सक के द्वारा जांच करवा सकते हैं कि आप मानसिक रूप से स्थिर जीवन जी रहे हैं या नहीं । यदि आप अपने किसी भी दोस्त, परिवार या परिचितों में इन लक्षणों को देखते हैं, तो इसके बारे में उनके साथ संक्षिप्त बातचीत करने की सलाह दी जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Big Boss is Watching !!